बीजापुर : ‘निर्मल आँगन’ कार्यक्रम के पहले चरण की सफल शुरुआत, समुदाय विकास में एक मील का पत्थर

“निर्मल आँगन” कार्यक्रम का पहला चरण 1 जनवरी 2024 को कलेक्टर राजेन्द्र कुमार कटारा के नेतृत्व में आरंभ हुआ। 4 जनवरी को महत्वपूर्ण ब्लॉक स्तर के कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें गांधी फेलो और स्वयंसेवकों द्वारा आगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को एक दिवसीय प्रशिक्षण प्रदान किया गया । इस कार्यशाला ने महिला एवं बाल विकास विभाग बीजापुर और स्वयंसेवकों के लिए एक मंच के रूप में कार्य किया। जिन्होंने आंगनबाड़ी कर्मचारियों और स्वयंसेवकों को महत्वपूर्ण तकनीकी ज्ञान प्रदान करते हुए, उन्हें ब्लॉक से ग्राम पंचायत और आंगनबाड़ी स्तर तक कार्यक्रम के बारे में मार्गदर्शन किया गया । आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा चर्चाओं में सक्रिय रूप से शामिल होकर, सहयोग और साझा जिम्मेदारी के एक वातावरण को प्रोत्साहित किया गया। कार्यशाला में रचनात्मक चित्रण और साफ और व्यवस्थित आंगनबाड़ियों बनाने के लिए व्यापक प्रशिक्षण की सत्र शामिल की गई थीं। कार्यशाला में स्वामित्व की भावना को बढ़ावा दिया गया और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की जिम्मेदारी पर जोर दिया गया। “निर्मल आँगन” कार्यक्रम ने उत्साह और समर्पण को बढ़ावा देने हेतु महत्वपूर्ण कदम है, जिससे हमारे समाज में “स्वच्छता से शिक्षा” के उत्कृष्ट लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता हैं। कार्यशाला में पीरामल फाउंडेशन से गाँधी फेलो पीएल मांशु शुक्ला, जिला समन्वयक धृति शर्मा, अरुण कुमार भूमिका, प्राची, निहाल तथा रौशनी छत्तीसगढ़ प्रदेश जन सेवा संस्थान बीजापुर के स्वयंसेवक, 50 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित थे।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को मिले व्यावसायिक प्रशिक्षण के माध्यम से, उनके कौशल में सुधार किया गया और उन्हें नवाचारी तकनीकों का परिचय दिया गया। इसके अलावा, सामुदायिक सहयोग के माध्यम से उन्हें आंगनबाड़ी कार्य में जोड़ा गया और उन्हें स्वयंसेवकों के साथ मिलकर काम करने का मौका मिला।

यह कार्यक्रम न केवल आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के कौशल में सुधार लाने का प्रयास किया, बल्कि समुदाय के बीच सामूहिक जिम्मेदारी और सहयोग के भाव को भी बढ़ावा दिया। इससे समाज में स्वच्छता और शिक्षा के प्रति जागरूकता बढ़ी और सामुदायिक संबंधों में मजबूती आई।

कार्यक्रम के माध्यम से, स्वयंसेवकों के बीच सहयोग और साझा जिम्मेदारी के माध्यम से समाज में सकारात्मक परिवर्तन लाने का प्रयास किया गया। यह न केवल आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सशक्त बनाने में सहायक हुआ, बल्कि समुदाय के सभी सदस्यों को सामूहिक रूप से उनके समुदाय के विकास में भाग लेने का अवसर प्रदान किया।

इस प्रकार, “निर्मल आँगन” कार्यक्रम ने समुदाय के विकास और स्वच्छता में गहरा संबंध बनाने का कार्य किया और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के कौशल को मजबूत किया। इसके माध्यम से समुदाय को सामूहिक रूप से संजोया गया और सामूहिक जिम्मेदारी के भाव को मजबूत किया गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *