रायपुर : मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय ने अयोध्या में भंडारे के आयोजन के लिए रामलला के ननिहाल से कार्यकर्ताओं की टीम को रवाना किया

मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय ने अयोध्या में भंडारे के आयोजन के लिए रामलला के ननिहाल से कार्यकर्ताओं की टीम को रवाना किया है। इस श्रेणीबद्ध पहल के अंतर्गत, राजधानी रायपुर के श्रीराम मंदिर से आये गए कार्यकर्ताओं को भी अयोध्या के भंडारे में शामिल होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। यह एक ऐतिहासिक क्षण है जब छत्तीसगढ़ के प्रति भक्ति और समर्पण का प्रतीक रामलला अयोध्या में आयोजित भंडारे में भाग लेने के लिए रवाना हो रहे हैं।

इस अद्वितीय कार्यक्रम के दौरान, जो कि 60 दिनों तक चलेगा, रामलला के ननिहाल से आए गए छत्तीसगढ़ के कार्यकर्ताओं को अपने समर्पण और भक्ति का प्रदर्शन करने का एक अद्वितीय अवसर है। भंडारे के आयोजन में भाग लेने वाली टीम का समर्पण और उनकी कठिनाईयों को पार करने की क्षमता इस समय के दौरान प्रमुख आकर्षण होंगे।

अयोध्या में रामलला के ननिहाल छत्तीसगढ़ से भंडारे का आयोजन करने का निर्णय अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे सार्वजनिक धार्मिक आयोजन का संदेश देने के साथ-साथ राज्य के लोगों को भी समृद्धि और शांति की कामना का एक सामाजिक मंच प्राप्त होता है। इस कार्यक्रम के माध्यम से सार्वजनिक धार्मिक आयोजनों का समर्थन करने से राज्य की सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा मिलेगा और लोगों के बीच एकता और सद्भाव की भावना को बढ़ावा मिलेगा।

छत्तीसगढ़ की 6 समितियां इस भंडारे के आयोजन के लिए समर्थन करेंगी और इसका समन्वय समिति के सदस्यों के माध्यम से होगा। इस समिति का समन्वयक विधायक श्री धरमलाल कौशिक ने बनाया गया है, जिन्होंने अपने पूर्वाधिकारीयों की भरपूर दिशा निर्देशन में यह सुनिश्चित करने का कार्य किया है कि भंडार का आयोजन सुचारु रूप से हो। समिति के सभी सदस्यों ने इस कार्यक्रम के उद्दीपन और समन्वय के लिए सहयोग करने का संकल्प जताया है ताकि यह धार्मिक अधिष्ठान केवल छत्तीसगढ़ से ही नहीं, बल्कि पूरे देश में गौरव और सम्मान प्राप्त कर सके।

इस भंडार के आयोजन के माध्यम से सार्वजनिक जीवन में धार्मिकता की भावना को बढ़ावा मिलेगा और लोग एक और बढ़ते आदर्शों की दिशा में प्रेरित होंगे। इस सांस्कृतिक आयोजन के माध्यम से समृद्धि और

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *