रायपुर : जिला प्रशासन कोरिया द्वारा मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय को भगवान श्रीराम का छायाचित्र एवं झुमका महोत्सव का प्रतीक चिन्ह भेंट किया गया

जिला प्रशासन कोरिया ने एक गौरवशाली क्षण में मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय को भगवान श्रीराम का छायाचित्र एवं झुमका महोत्सव का प्रतीक चिन्ह भेंट किया। यह घटना न केवल एक सांस्कृतिक आयोजन बल्कि एक आध्यात्मिक संवाद का भी प्रतीक है।

भारतीय समाज में भगवान श्रीराम का महत्व अत्यधिक है। उनकी शक्ति, साहस, और न्याय के प्रतीक के रूप में वे सदैव भारतीय जीवन और संस्कृति के अभिन्न अंग रहे हैं। झुमका महोत्सव भी भारतीय संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जिसमें लोग उत्सव के माध्यम से अपनी परंपराओं और धार्मिक अनुष्ठानों को समर्थन और मनाते हैं।

इस भव्य अवसर पर, जिला प्रशासन कोरिया ने मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय को भगवान श्रीराम का छायाचित्र भेंट किया। यह चित्र न केवल एक धार्मिक प्रतीक है, बल्कि एक शक्तिशाली सन्देश भी है। इस संदेश का मतलब है कि श्रीराम की विचारधारा, न्याय, और समर्पण को अपनाकर, हम सभी समाज के सुधार और उत्थान की दिशा में कदम बढ़ा सकते हैं।

झुमका महोत्सव भी एक ऐसा अवसर है जिसमें समुदाय के लोग एक साथ आत्मीयता और भाईचारे की भावना को महसूस करते हैं। इस महोत्सव में लोग आपसी सौहार्दपूर्ण गतिविधियों में भाग लेते हैं, परंपरागत गानों और नृत्यों का आनंद लेते हैं, और अपने संस्कृतिक विरासत को मानते हैं।

इस भावनात्मक और सांस्कृतिक अवसर पर, मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय ने भगवान श्रीराम का छायाचित्र ग्रहण किया। यह उनकी समर्थना और सम्मान का प्रतीक है जो वे लोगों की सेवा और समृद्धि के लिए करते हैं।

इस अवसर पर, समुदाय के नेता और प्रतिष्ठित व्यक्तियों ने भगवान श्रीराम के प्रति अपनी श्रद्धांजलि व्यक्त की और झुमका महोत्सव का आयोजन किया। इस समारोह में, लोगों ने समृद्धि, समाज सेवा, और धार्मिक समर्पण की महत्वपूर्णता पर बातचीत की।

झुमका महोत्सव का उद्दीपन, जिला प्रशासन कोरिया और मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय के इस आदर्श संबंध को और भी मजबूत बनाता है। इस संबंध में समाज को एक एकीकृत, सांस्कृतिक, और धार्मिक एकता की भावना दिखाई गई है।

अंत में, झुमका महोत्सव का यह अद्भुत उत्सव एक बार फिर से हमें याद दिलाता है कि हम सभी भारतीय, अपनी संस्कृति और धरोहर के प्रति समर्पित और उनकी रक्षा के लिए संगठित होने की जरूरत है। यह समाचार हमारे मन में एक समृद्ध, संघर्षशील और समर्पित भारत की आशा को जगाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *