रायपुर : रामायण के पात्र निषाद राज, शबरी,जटायु आदि के निःस्वार्थ कार्यों से सभी को प्रेरणा लेना चाहिए-मंत्री श्री टंकराम वर्मा

राजस्व मंत्री श्री टंकराम वर्मा आज धरसींवा विकासखंड के ग्राम जरौदा में आयोजित भक्त गुहा राज की जयंती में शामिल हुए। श्री वर्मा ने “हे भारत के राम जागो मैं तुम्हे जगाने आया हूं, वाक्य से सम्बोधन प्रारम्भ करते हुए कहा कि भारत में रहने वाला प्रत्येक व्यक्ति श्रीराम के चरित्र को भलीभांति जानता है। रामायण के पात्र निषाद राज, शबरी,जटायु आदि के कार्यों से हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए। राम के भक्त और सेवक गुहा राज आज सभी के निःस्वार्थ कर्म करने का प्रेरणास्त्रोत हैं। आज के समय में मानवता की सेवा ही परम धर्म है। कार्यक्रम में धरसींवा विधायक पद्मश्री श्री अनुज शर्मा ने कहा कि भगवान राम को नदी पार कराने वाले निषाद समाज अन्य समाज के लिए निःस्वार्थ कार्य करने की प्रेरणा देने वाला समाज है। वर्तमान में सरकार अपने नीतियों के अनुरूप जनता को दिए गए वचन को लगातार पूरा करते जा रही है। इस अवसर पर रायपुर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती डोमेश्वरी वर्मा,धरसींवा जनपद अध्यक्ष श्रीमती उत्तरा भारती कमल,सभापति जिला पंचायत श्री हरिशंकर निषाद, जनपद उपाध्यक्ष श्री चंद्रकांत वर्मा,तिल्दा जनपद सभापति श्री शिव शंकर वर्मा,जरौदा के सरपंच श्री धनंजय वर्मा,निषाद समाज के अध्यक्ष श्री परुऊ राम निषाद,कुर्मी समाज के केंद्रीय अध्यक्ष श्री चोवा राम वर्मा,श्री एम आर निषाद,डॉ. श्रवण निषाद सहित बड़ी संख्या में नागरिकगण उपस्थित थे

राजस्व मंत्री श्री टंकराम वर्मा ने आज धरसींवा विकासखंड के ग्राम जरौदा में आयोजित भक्त गुहा राज की जयंती में भाग लेकर एक उत्कृष्ट कार्यक्रम में शामिल होकर अपने उदार विचारों को साझा किया। श्री वर्मा ने अपने संबोधन में कहा, “हे भारत के राम जागो मैं तुम्हे जगाने आया हूं,” और इससे कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने बताया कि भारतीय समाज में हर व्यक्ति श्रीराम के चरित्र को अच्छी तरह से समझता है और उससे प्रेरणा लेता है।

रामायण के पात्र निषाद राज, शबरी, जटायु, आदि ने अपने कार्यों के माध्यम से हमें शिक्षा दी है कि सच्ची सेवा और निःस्वार्थ कर्म कैसे करना चाहिए। इसके साथ ही, गुहा राज जैसे भक्त और सेवक ने हमें यह दिखाया है कि आत्मनिर्भरता और समर्पण के माध्यम से किसी भी समाज को कैसे समृद्धि की ऊँचाइयों तक पहुंचाया जा सकता है।

श्री टंकराम वर्मा ने अपने भाषण में समय के साथ में रहकर मानवता की सेवा को परम धर्म बताया। उन्होंने कहा कि आज के समय में मानवता की सेवा ही हमारे जीवन का मुख्य उद्देश्य होना चाहिए और सभी को इस मार्ग पर चलना चाहिए।

कार्यक्रम में धरसींवा विधायक पद्मश्री श्री अनुज शर्मा ने भी अपनी बातें साझा कीं। उन्होंने कहा कि भगवान राम को नदी पार कराने वाले निषाद समाज ने अपने समर्पण और निःस्वार्थ कार्यों के माध्यम से दूसरों के लिए सदैव काम किया है। इस समाज ने सद्गुण से भरपूर अद्भुत परंपरा का धारी बनाया है और उन्होंने समाज को सच्चे मानवीय मूल्यों की ओर प्रवृत्ति करने के लिए प्रेरित किया।

धरसींवा जनपद अध्यक्ष श्रीमती उत्तरा भारती कमल ने भी अपने भाषण में समाज को एकजुट होकर सभी के साथ मिलकर समृद्धि की ओर बढ़ने की आवश्यकता को बताया। सभापति जिला पंचायत श्री हरिशंकर निषाद ने सरकार की नीतियों के अनुरूप जनता के साथ मिलकर काम करने के लिए आश्वासन दिया।

इस अवसर पर रायपुर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती डोमेश्वरी वर्मा, जरौदा के सरपंच श्री धनंजय वर्मा, निषाद समाज के अध्यक्ष श्री परुऊ राम निषाद, कुर्मी समाज के केंद्रीय अध्यक्ष श्री चोवा राम वर्मा, श्री एम आर निषाद, डॉ. श्रवण निषाद सहित बड़ी संख्या में नागरिकगण उपस्थित थे। इससे साफ है कि यह कार्यक्रम सामाजिक एवं राजनीतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण था और समृद्धि और एकता के माध्यम से समाज को एक सकारात्मक दिशा में बढ़ने का एक शानदार प्रतीक बना।

इस भव्य समारोह में भाग लेने वाले सभी नेताओं ने अपने उदार विचारों और सकारात्मक संदेशों के माध्यम से समृद्धि और सामाजिक समरसता की बढ़ती जरूरत को बताया। इस समारोह ने समाज को एक साथ लाने और समृद्धि की दिशा में कदम से कदम मिलाकर चलने का संकेत दिया है। इसके माध्यम से सभी नागरिकों को एक और एक से मिलकर समृद्धि और समरसता की ऊँचाइयों को हासिल करने के लिए सक्रिय रूप से काम करने का प्रेरणा स्रोत मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *