रायपुर : सभी आंगनबाड़ी और मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों में 22 जनवरी को सामान्य अवकाश घोषित

छत्तीसगढ़ राज्य शासन द्वारा अयोध्या में श्री रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह के पावन अवसर पर प्रदेश के सभी आंगनबाड़ी और मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों में 22 जनवरी को सामान्य अवकाश घोषित किया गया है। छत्तीसगढ़ शासन के महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा इस आशय का आदेश जारी किया गया है।

छत्तीसगढ़ राज्य शासन ने अयोध्या में श्री रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह के पावन अवसर पर प्रदेश के सभी आंगनबाड़ी और मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों में 22 जनवरी को सामान्य अवकाश घोषित किया है। इस महत्वपूर्ण घड़ी में, छत्तीसगढ़ शासन ने महिला एवं बाल विकास विभाग के माध्यम से इस आदेश को जारी किया है, जिससे समाज में सामूहिक उत्साह और भक्ति की भावना को ध्यान में रखते हुए लोग इस श्रेणी के आयोजनों में भाग लेंगे।

इस समारोह के अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य ने सभी आंगनबाड़ी और मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों को एक-दिवसीय सामान्य अवकाश की घोषणा करने के माध्यम से सामाजिक सांस्कृतिक दृष्टिकोण से इस महत्वपूर्ण क्षण को समर्थन दिया है। इसे महत्वपूर्णता देते हुए, महिला एवं बाल विकास विभाग ने यह आदेश जारी किया है ताकि लोग इस प्रतिष्ठा समारोह में अपने भागीदारी के लिए तैयार हो सकें।

छत्तीसगढ़ राज्य के महत्वपूर्ण ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित आंगनबाड़ी और मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों में 22 जनवरी को होने वाले इस समारोह के लिए सामाजिक समर्थन का इज़हार करने से लोगों को समर्थन मिलेगा और वे इस महत्वपूर्ण घड़ी में सक्रिय रूप से शामिल हो सकेंगे।

आंगनबाड़ी केंद्रें महत्वपूर्ण स्थानों होते हैं जहां बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, और पोषण का समर्पित कार्य किया जाता है। इन केंद्रों के माध्यम से समाज में जागरूकता बढ़ती है और गरीबी, मलनुत्र, और बच्चों के स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याओं का समाधान किया जाता है। इसलिए, इन केंद्रों के कार्यकर्ताओं के लिए इस समारोह का महत्वपूर्ण हिस्सा होना उचित है।

यह आंगनबाड़ी और मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों के स्तर पर सामाजिक समर्थन की पहल है जिससे लोगों को इस प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए एक सकारात्मक माहौल मिलेगा। इससे लोग इस अद्भुत क्षण को ध्यान में रखकर इस महत्वपूर्ण पूजा-पाठ के आयोजन में अपनी सहभागिता बना सकेंगे और सामाजिक एकता की भावना को बढ़ावा दे सकेंगे।

छत्तीसगढ़ राज्य के महिला एवं बाल विकास विभाग का यह कदम समर्थन के लायक है, जो आंगनबाड़ी केंद्रों के कार्यकर्ताओं को इस समारोह के लिए समर्पित करता है और उन्हें सामाजिक समर्थन का महत्वपूर्ण रोल निभाने का एक और मौका प्रदान करता है।

इस समर्थन के माध्यम से लोगों को यह भी याद दिलाया जा रहा है कि यह समारोह केवल धार्मिक महत्वपूर्णता नहीं रखता, बल्कि इसका सीधा सम्बंध समाज के सामूहिक एवं सांस्कृतिक जीवन से भी है। इससे लोग एक-दूसरे के साथ साझा करते हैं और सामूहिक समर्थन में भाग लेकर एक सजीव और समृद्ध समाज की दिशा में योगदान करते हैं।

इस प्रकार, छत्तीसगढ़ राज्य शासन द्वारा जारी किए गए इस आदेश ने समाज में श्री रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह के आयोजन में लोगों को सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए प्रेरित किया है और इसे सामाजिक समर्थन के माध्यम से महत्वपूर्ण बना दिया है। इस अद्भुत और पावन क्षण के माध्यम से लोग एक-दूसरे के साथ जुड़कर सामूहिक समर्थन में भाग लेंगे और एक एकत्रित समाज की भावना को बढ़ावा देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *