राजनांदगांव : डोंगरगांव अनुविभाग के सभी तहसीलों में आयोजित हुआ जनसमस्या निवारण शिविर

जनसमस्या निवारण शिविरों का आयोजन राजस्व सहित विभिन्न कार्यों के निवारण के लिए किया गया है। इन शिविरों का उद्देश्य जनता की समस्याओं को सुलझाना और उनके लिए आवश्यक सहायता प्रदान करना है। कलेक्टर श्री संजय अग्रवाल के नेतृत्व में डोंगरगांव अनुविभाग के डोंगरगांव, छुरिया और कुमर्दा तहसीलों में जनसमस्या निवारण शिविर का आयोजन किया गया।

डोंगरगांव तहसील में आयोजित शिविर में कुल 169 आवेदन प्राप्त हुए, जिसमें विवादित नामांतरण, फौती, किसान किताब, खाता विभाजन और त्रुटि सुधार जैसे मुद्दों पर ध्यान दिया गया। शिविर में 20 किसानों को ऋण पुस्तिका वितरित की गई और अधिकारियों को अविवादित नामांतरण के निराकरण के लिए निर्देश दिए गए।

अनुविभाग के अन्य हिस्सों में भी जनसमस्या निवारण शिविरों का आयोजन किया गया। छुरिया तहसील के भीतर भी एक ऐसा ही शिविर आयोजित किया गया, जिसमें सामुदायिक भवन में बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। इस शिविर में भी ग्रामीणों द्वारा आवेदन प्रस्तुत किए गए और उनकी समस्याओं का समाधान किया गया।

छुरिया तहसील के अंतर्गत कुल 121 आवेदन प्राप्त हुए, जिनमें विवादित नामांतरण, बंटवारा, अविवादित नामांतरण बंटवारा और सीमांकन तथा अन्य राजस्व संबंधी मामले शामिल थे। इनमें से 48 आवेदनों का निराकरण शिविर स्थल पर किया गया। साथ ही, कुल 77 आवेदन अन्य विभागों से संबंधित थे, जिनका समाधान भी उपलब्ध किया गया।

एसडीएम श्री अश्वन पुसाम की उपस्थिति में इन शिविरों का आयोजन किया गया और उन्होंने आवेदनों के निराकरण के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। इसके अलावा, जिला स्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर का आयोजन भी 17 फरवरी 2024 को किया जाएगा।

ये जनसमस्या निवारण शिविर जनता के समस्याओं के समाधान के लिए महत्वपूर्ण कदम हैं। इनके माध्यम से लोग अपनी समस्याओं को सार्वजनिक रूप से प्रस्तुत कर सकते हैं और उनका समाधान प्राप्त कर सकते हैं। इसके जरिए सरकार सीधे लोगों के बीच आक्रामक रूप से काम कर सकती है और जनता के हित में सकारात्मक परिणाम प्राप्त कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *