सूरजपुर : उप पंजीयक कार्यालय में 30 जनवरी से एन.जी.डी.आर.एस प्रणाली पंजीयन होगा प्रारंभ

नई एन.जी.डी.आर.एस. प्रणाली के अनुसार भूमि का पंजीकरण करने के लिए उप पंजीयक कार्यालय में जाने वाले व्यक्ति को वेबसाइट पर जाकर पंजीकरण करना होगा। पंजीकरण करने के बाद, वह अपॉइंटमेंट प्राप्त करने के लिए आवेदन करेगा। उसके बाद, वह निर्धारित तारीख पर कार्यालय में जाकर अपने दस्तावेजों का पंजीकरण करा सकेगा। पंजीकृत दस्तावेजों के लिए पंजीकरण शुल्क के अतिरिक्त 60 रुपये प्रति पृष्ठ का शुल्क देना होगा।

नई प्रणाली के अनुसार, उप पंजीयक कार्यालय में एन.जी.डी.आर.एस. से भूमि का पंजीकरण एक सरल और अधिक सुगम प्रक्रिया होगी। इस प्रक्रिया के अनुसार, प्रथम चरण में यहां परिभाषित कदमों के अनुसार आवेदकों को ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा। उन्हें अपने आवश्यक दस्तावेजों का विवरण भरकर उपलब्ध कराया जाएगा। फिर, उन्हें निर्धारित तिथि और समय पर कार्यालय में उपस्थित होना होगा, जहां उनके दस्तावेजों का पंजीकरण किया जाएगा। यहां भूमि के पंजीकरण के लिए अतिरिक्त शुल्क भी लिया जाएगा।

नई प्रणाली के माध्यम से, भूमि के पंजीकरण की प्रक्रिया में सुधार किए गए हैं। यह सुनिश्चित करता है कि आवेदकों को पंजीकरण प्रक्रिया में कोई समस्या नहीं आती है और वे सरलता से अपने दस्तावेजों को पंजीकृत करा सकते हैं। प्रणाली के माध्यम से, सरकार भूमि के पंजीकरण प्रक्रिया को अधिक संवेदनशील और उपयोगकर्ता मित्री बनाने का प्रयास कर रही है।

इस नई प्रणाली के अनुसार, आवेदकों को कई चरणों में अपने दस्तावेजों को पंजीकृत करने का विकल्प मिलेगा। वे इसे अपनी सुविधा के अनुसार चुन सकते हैं और बिना किसी समस्या के अपने भूमि को पंजीकृत करवा सकते हैं।

इस प्रकार, नई एन.जी.डी.आर.एस. प्रणाली भूमि के पंजीकरण की प्रक्रिया को सुगम और सरल बनाए रखने का प्रयास कर रही है। यह सुनिश्चित करेगी कि भूमि के पंजीकरण में कोई अविश्वसनीयता नहीं होती है और लोग इसे आसानी से और बिना किसी परेशानी के करवा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *